फॉर्म वानिकी योजना एच.एन.एल. का एक अनन्य पहल है, जिसे ऐच्छिक/गैर सरकारी संगठनों (एन.जी.ओ.ज) के सक्रिय भागीदारी के साथ कार्यान्वित किया जाता है। विभिन्न प्रजाति के लुगदी काष्ठ पौध यथा यूकेलिप्टस, ऑकासिया, मैंजियम, बाँस, सरकंडा आदि को गैर सरकारी संगठनों (एन.जी.ओ.ज) के माध्यम से वितरित किया जाता है १ए.एन.एल. के कृन्तक काम्प्लेक्स में विकसित उच्च उपजयुक्त कृन्तक लुगदी काष्ठ पौधों को सहायिकी दर पर वितरित किया जाता है।

एच.एन.एल. के फॉर्म वानिकी योजना के उल्लेखनीय तथ्य :

  • वर्ष 1996 में आरंभ की गयी।
  • गैर सरकारी संगठनों (एन.जी.ओ स्‌) के माध्यम से सहायिकी दर पर उच्च लुगदी काष्ठ पौध का उत्पादन एवं वितरण।
  • प्रत्येक वर्ष योजना में केरल के सभी भागों से करीबन 125 संगठन सक्रिय रूप से भाग लेते हैं।
  • योजना में राज्य के सभी 14 जिले शामिल होते हैं।
  • लुगदीकाष्ठ की खेती में अच्छे अभ्यासों संबंधी व्यावहारिक ज्ञान प्रदान करने/जागरूकता निर्मित करने के निमित्त एच.एन.एल. पूरे राज्य में चारों तरफ़ सामूहिक संपर्क/अभियान कार्यक्रम आयोजित करती है।
  • सीमान्त तथा बंजर भूमियों को उत्पादनकारी बनाने के परिणाम, किसानों को अतिरिक्त आय प्रदान किया जाना - यह नियमित वृक्षारोपण/कृषीय फसल को प्रभावित नहीं करता है।
  • स्वच्छ पर्यावरण तथा लुगदी काष्ठ की अधिकतम उपलब्धता की दोहरे उद्देश्यों की पूर्ति सुनिश्चित होती है।
  • अब तक कुल 205 लाख पौध वितरित किए जा चुके हैं तथा चालू वित्त वर्ष के दौरान और 42 लाख वितरण करने की योजना है।
  •  

आपूर्तिकर्ता/एजेन्ट्स/किसान जो एच.एन.एल. के आकर्षक फॉर्म वानिकी योजनाओं की जानकारी लेना चाहते हैं, वे आगे दिये पते पर संपर्क कर सकते हैं :
 

 





no img