एच.एन.एल. में प्रदूषण नियंत्रण, उत्पादन का अंगभूत भाग है। राष्ट्रीय प्राथमिकताओं तथा सामाजिक दायित्वों के अनुकूल एच.एन.एल. ने प्रकृति के उपहार की परस्पर क्रिया की नीति को अपनाया है।

संयंत्र के चारों तरफ़ 30,000 से अधिक वृक्षों के हरे-भरे हरित वनस्पति के संरक्षण हेतु तथा वायुमंडलीय प्रदूषण के नियंत्रण हेतु एच.एन.एल. के पास इलेक्ट्रोस्टेटिक प्रेसिपिटेटर्स (ई.एस.पी.) तथा धूल एकत्रक है। यह छोटी उपलब्धि नहीं है कि संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (यू.एन.ई.पी.) ने अपने एन.ऐ.ई.एम. कार्यक्रम के अंतर्गत एशिया पेसिफिक्‌ क्षेत्र में एच.एन.एल. को आदर्श पेपर मिल के रूप में चुना है। साथ ही मिल में अपनाए गए उत्कृष्ट प्रदूषण नियंत्रण उपायों तथा प्रविधियों हेतु एच.एन.एल. को 1997-98, 1999-2000 तथा 2002 में केरल राज्य प्रदूषण नियंत्रण पुरस्कार प्रदान किया गया।

भारतीय लुगदी एवं काग.ज उद्योग के एक सर्वेक्षण, विज्ञान व पर्यावरण केन्द्र (सी.एस.ई.) द्वारा देश में पहली बार 'हरित श्रेणी' के प्रयासों - जिसे केन्द्रीय पर्यावरण व वन मंत्रालय तथा संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यू.एन.डी.पी.) द्वारा समर्थन दिया गया - ने एच.एन.एल. को प्रथम पाँच सौहार्दपूर्ण पर्यावरणयुक्त काग.ज मिलों के मध्य रखा है।

उल्लेखनीय तथ्य :

  • नियंत्रण उपायों पर अविरत ध्यान तथा परिणामों पर सतत मॉनीटर करना।
  • वायु प्रदूषण - सभी बॉयलर्स तथा चूना भट्टा हेतु पूर्ण कार्यात्मक इलेक्ट्रोस्टेटिक प्रेसिपिटेटर्स।
  • जल प्रदूषण - पूर्ण उपस्करयुक्त निस्सारी उपचार संयंत्र। निस्सारी बहाव की गुणवत्ता को वर्णित सांविधिक विनियमनों। दिशा निर्देशों के सभी मानदण्डों से मिलान किया जाता है।
  • भूमि प्रदूषण - खतरनाक रद्दी निपटान हेतु सुरक्षित भूमि भरण सुविधा का निर्माण।
  • सभी संयंत्रों को शामिल करते हुए संघटित प्रविधि स्वचलन - उक्त का कार्यान्वयन करने वाला, भारत में प्रथम न्यू.जप्रिण्ट उद्योग।
  • सभी कार्यात्मक क्षेत्रों में ई-अभ्यासों का होना यानी क्रय, वितरण, वित्त, भंडार, मानव संसाधन, प्रविधि तथा ई.आर.पी. के साथ अनुरक्षण तथा अन्य सहयोगी मूलभूत संरचना युक्त नेटवर्क्स - जिससे संगठन अत्यधिक प्रभावनीय हो जाता है।
  • ऑन लाईन डिजिटल गुणवत्ता नियंत्रण पद्धति।
  • लुगदीकरण, पेपर मशीन तथा फिनिशिंग क्षेत्रों जैसे सभी नाजूक क्षेत्रों में अत्यधिक महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकी सुधार।
  • कुल उत्पादित लुगदी के 85% हेतु कुल क्लोरीन मुक्त (टी.सी.एफ.) विरंजन प्रविधि।
  • पर्यावरण प्रबन्धन पद्धति (ई.एम.एस.) हेतु आई.एस.ओ. 9001:2000 तथा आई.एस.ओ. 14001:1996 के साथ प्रत्यायित, जिसमें टॉउनशिप भी शामिल है।
  • दक्षिण भारत में प्रथम कंपनी है जिसमें टॉउनशिप आई.एस.ओ. 14001:2000 के साथ प्रत्यायित है।
  • वर्ष 1999 तथा 2004 में केन्द्रीय पर्यावरण व वन मंत्रालय (एमओ.ई.एफ.) तथा विज्ञान व पर्यावरण केन्द्र (सी.एस.ई.) द्वारा संयुक्त रूप में संचालित हरित श्रेणीबद्ध प्रयासों में लुगदी व काग.ज वर्ग में ''दो पत्तियों'' की श्रेणी में पुरस्कृत किया गया।




no img