विस्तार-सह-विविधीकरण परियोजना (ई.डी.पी.) - सिंहावलोकन

  • विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डी.पी.आर.) एक अंतरराष्ट्रीय परामर्शदाता, मेसर्स जैको पैरी मैनेजमेन्ट कंसल्टिंग, फिनलैंड, द्वारा तैयार की गयी।
  • परियोजना के सफलतापूर्वक कार्यान्वयन हेतु आवश्यक विभिन्न सहयोग एवं मूलभूत संरचनायुक्त आश्रय के संबंध में एच.एन.एल. ने केरल सरकार से पहुँच बनायी।
  • आवश्यकताओं पर विचार करने हेतु केरल के माननीय मुख्य मंत्री महोदय ने संबंधित मंत्रियों के समूह की एक बैठक बुलायी।
  • केरल सरकार ने परियोजना के सहयोग हेतु आश्वासन प्रदान किया तथा परियोजना हेतु एच.एन.एल. की आवश्यकताओं यानी - कच्ची सामग्रियाँ, मूलभूत संरचनात्मक सुविधाएँ आदि को विस्तृत रूप से समझने हेतु एक उच्च स्तरीय समिति का गठन किया गया।
  • मौजूद स्रोत से मुफ्त में जल निकालने हेतु केरल सरकार पूर्ण रूप से रा.जी हो गयी।
  • प्रस्ताव को विचारार्थ भारी उद्योग एवं लोक उद्यम मंत्रालय (एच.आई. एण्ड पी.ई., प्रशासनिक मंत्रालय) में जमा किया गया तथा फिर लोक निवेश बोर्ड (पी.आई.बी.) में जमा किया गया, तत्पश्चात अंतिम अनुमोदन हेतु आर्थिक मामलों की मंत्रिमण्डल समिति, भारत सरकार के पास जमा किया गया।

 

ई.डी.पी. की पूर्णता से एच.एन.एल. में निम्न बदलाव हो जाएगा :

  • न्यू.जप्रिण्ट से प्रीमियम फिल्म परतयुक्त प्रकारों तक के व्यापक श्रेणी में उत्पाद व के साथ भारतीय लुगदी व काग.ज उद्योग में एक प्रमुख खिलाड़ी के रूप में हो जाना।
  • देश व्यापी बा.जार में उपस्थिति के साथ 900 करोड़ रु. का अस्तित्व।
  • प्रतिवर्ष 2,80,000 एम.टी. की कुल उत्पादन क्षमता - मापक्रम जो कि उद्योग के सर्वोत्तम खिलाड़ियों की तुलना में है।

 

अपनी कार्यसूची हेतु जन जागरूकता के निर्माण के द्वारा जनता के मध्य अनुकूल रूप से मतों को प्रस्तुत करने हेतु मीडिया समाज के व्यवहार्य सहयोग हेतु एच.एन.एल. निवेदन करती है, जो सामाजिक तथा आर्थिक आदेशकों से युक्त है - फॉर्म वानिकी, द्वार पर क्रय तथा रद्दी काग.ज एकत्रण योजनाएं, तथा जो कि प्रवर्तन कार्यान्वयन तथा इसके महत्वाकांक्षी विस्तार सह विविधीकरण परियोजना की पूर्णता हेतु सुसाध्य अभिकर्मक के रूप में भी कार्य करता है।





no img