100 टी.पी.डी. डी-इंकिंग संयंत्र जिसे दिसम्बर 2002 में चालू किया गया, के लिए एच.एन.एल. को करीबन 100 एम.टी. पुराने समाचार पत्रों तथा 40 एम.टी. के पुराने पत्रिकाओं की आवश्यकता होती है। इस आवश्यकता की पूर्ति के लिए एच.एन.एल. ने 'रद्दी काग.ज वसूली तथा एकत्रण' योजना आरंभ किया, जिसके द्वारा गैर सरकारी संगठनों (एन.जी.ओ.ज), स्वसहायता समूहों तथा अन्य ऐच्छिक संगठनों के सहयोग से संरचनात्मक प्रक्रिया के माध्यम से पुराने काग.जों तथा पत्रिकाग.जों का एकत्रण सुनिश्चित होता है।

रद्दी काग.ज वसूली व एकत्रण योजना के उल्लेखनीय तथ्य :

  • वर्ष 2002 से डी-इंकिंग संयंत्र का प्रचालन।
  • करीबन 10,000 हे. की भूमि में वन सामग्रियों का संरक्षण होता है।
  • ऊर्जादक्ष, सौहार्दपूर्ण पर्यावरणयुक्त प्रौद्योगिकी का लागत में कमी हेतु प्रयासों तथा हरित पहलों में महत्वपूर्ण योगदान है।
  • पुनर्चक्रण हेतु कच्ची सामग्रियाँ।
  • देशी एवं आयातित स्रोतों से उपयोगित समाचार पत्र तथा पत्रिका काग.ज।
  • राज्य में कुल उत्पन्न किया गया रद्दी काग.ज - प्रतिदिन 260 टन।
  • कंपनी की कुल आवश्यकता - 140 टन प्रतिदिन।
  • कंपनी द्वारा कुल एकत्रण - प्रतिदिन 70 टन - कुल उपलब्धता का 26% है।
  • रद्दी काग.ज एकत्रण, भंडारण तथा परिवहन के रूप में अनौपचारिक क्षेत्र में काम के अवसर।
  • कुटुम्बश्री के न.जदीकी समूहों तथा अन्य गैर सरकारी संगठनों (एन.जि.ओ.) के माध्यम से संरचनात्मक एकत्रण प्रक्रिया के सूत्रीकरण के .जरिए एकत्रण को तीव्र करने का प्रयास जारी है।

 





no img